शांति भूषण ने ही कहा था, ”प्रशांत कर सकता है जजों को मैनेज” – दिल्ली पुलिस

admin

पूर्व कानून मंत्री शांति भूषण की ऑडियो सीडी के रहस्य पर से पर्दा हटता नजर आ रहा है। शांति भूषण और अमर सिंह की ऑडियो सीडी मामले में दिल्ली पुलिस तीस हजारी कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट फाइल की है। रिपोर्ट में सीडी को सही बताया गया है। इस ऑडियो सीडी में शांति भूषण, अमर सिंह और मुलायम सिंह के बीच फोन पर बातचीत की रिकार्डिंग का दावा किया गया है। जिसमें पैसों के लेन देन की चर्चा है।

मुलायम सिंह और शांति भूषण: मैनेज नहीं हुई पुलिस?

क्लोजर रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली की प्राइवेट लैब और सीएफएसएल ने इस सीडी को असली बताया है। पुलिस ने ये क्लोजर रिपोर्ट एक महीने पहले फाइल की है। इससे पहले चंडीगढ़ लैब ने इस सीडी को नकली बताया था। अब तक कुल तीन लैब में इस सीडी की जांच हो चुकी है। सीएफएसएल की दो लैब से सीडी को लेकर अलग-अलग रिपोर्ट आई थी।

सूत्रों ने बताया कि अमर सिंह ने पुलिस को बताया था कि टेप में उनकी आवाज असली है और इसमें ‘किसी प्रकार की छेड़छाड़’ नहीं की गई है। इस सीडी को अप्रैल में अन्ना हजारे द्वारा सशक्त लोकपाल लाने के लिए अनशन करने के बाद मीडिया में जारी किया गया था। अनशन के बाद भूषण को लोकपाल मसौदा तैयार करने के लिए बनाई गई ड्राफ्टिंग कमिटी का सह-अध्यक्ष बनाया गया था। तब भूषण ने आरोप लगाया था कि समाज में उनको बदनाम करने के लिए इस नकली सीडी को तैयार किया गया है।

गौरतलब है कि सीडी के असली पाए जाने की जानकारी के बाद अन्ना की कोर टीम के एक और सदस्य पर सवालिया निशान लग गया है। वकील और पूर्व केंद्रीय मंत्री शांति भूषण टीम अन्ना के प्रमुख सदस्यों में हैं। वे इंदिरा गांधी के खिलाफ मुकदमा लड़ चुके हैं।

सीडी में शांति भूषण कथित तौर पर मुलायम सिंह और अमर सिंह को बता रहे हैं कि उनका बेटा प्रशांत भूषण ‘जजों को मैनेज’ कर सकता है। अप्रैल में इस मामले के सामने आने के बाद जो लोग शांति भूषण की साझा ड्राफ्टिंग कमिटी से इस्तीफे की मांग कर रहे थे, उन्हें एक बार फिर सवाल उठाने का मौका मिल गया है।

उधर इस बारे में प्रशांत भूषण ने कहा है कि मालूम होता है कि कुछ पुलिस अधिकारी, कुछ फॉरेंसिक एजेंसी के अधिकारी और सरकार के कुछ लोग उनके खिलाफ आपराधिक षडयंत्र कर रहे हैं। उन्होंने सवाल किया, ”चंडीगढ़ स्थित सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लैब (सीएफएसएल) के बारे में वे क्या बोलेंगे?”

Facebook Comments
Next Post

मौत से पहले दिनेश ने पूछा था, ''टीम अन्ना का कोई क्यों नहीं आया?''

दिनेश यादव की लाश: यूं ही गंवाई जान? दिनेश यादव का शव जब बिहार में उसके पैतृक गांव पहुंचा तो हजारों की भीड़ ने उसका स्वागत किया और उसकी मौत को ‘बेकार नहीं जाने देने’ का प्रण किया। लेकिन टीम अन्ना की बेरुखी कइयों के मन में सवालिया निशान छोड़ […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: