शाम छह बजे भारतीय समुद्री तट से टकरा सकता है फैलिन, ओडिशा के हेल्प लाइन नम्बर ज़ारी..

admin
0 0
Read Time:3 Minute, 0 Second

हैदराबाद. भारत के दक्षिणी राज्य आंध्र प्रदेश के समुद्री तट पर शनिवार शाम टकराने वाले चक्रवाती तूफान फेलिन को लेकर प्रशासन ने तैयारी लगभग पूरी कर ली है. इसके मद्देनजर करीब दो लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है. वहीं वायुसेना के दो विमानों के जरिए एनडीआरएफ की टीमों को भी इस तूफान से प्रभावित होने वाले इलाकों में पहुंचा दिया गया है.cycloner

आज शाम लगभग छह बजे आंध्र प्रदेश के समुद्री तट से इस तूफान के टकराने की संभावना है. वैज्ञानिकों को इस तूफान के समुद्री तट तक पहुंचने क तक इसके सुपर साइक्लोन में तब्दील होने की आशंका है. ऐसा होने पर इसकी विनाश लीला बेहद भयंकर हो सकती है. वैज्ञानिकों के मुताबिक इसका असर न सिर्फ आंध्र प्रदेश बल्कि ओडिशा समेत उत्तरी भारत के दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा तक भी देखा जा सकेगा और यहां पर तेज बारिश होने की संभावना है.

इस तूफान की वजह से उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओडिशा के समुद्री तट पर तीन मीटर तक ऊंची लहरें उठ सकती हैं. तूफान के मद्देनजर स्थानीय प्रशासन ने पुरी, गोपालपुर, श्रीकाकुलम, गंजाम, कुर्टा, जगतसिंह जिलों के निचले समुद्री इलाकों को खाली करा लिया है. मौसम विभाग की मानें तो अभी यह उड़ीसा के पारादीप से तकरीबन 500 किलोमीटर की दूरी पर है और इसकेउत्तरी आंध्र प्रदेश के कलिंगापत्तनम और दक्षिण ओडिशा पारादीप के बीच समुद्र तट से टकराने की संभावना है.

फेलिन के चलते रायपुर, नागपुर, जगदलपुर, बाराकपुर, रांची और ग्वालियर के एअरपोर्ट बेस को अलर्ट रहने के लिए कहा गया है. पूरे इलाके में 850 राहत कैंप तैयार किए गये हैं. हालात पर निगरानी रखने के लिए प्रभावित जिलों में कंट्रोल रूम बनाए गए हैं.

ओडिशा में फेलिन हेल्प लाइन कंट्रोल रूम्स के नम्बर निम्न प्रकार हैं:

Cyclone Help Line Odisha state control room number: 0674-2534177.

District control room numbers:

Ganjam 06811-263978

Puri 06752-223237

Kendrapara 06727-232803

Jagatsinghpur 06724-220368

Balasore 06782-262674

Bhadrak 06784-251881

Mayurbhanj 06792-252759

Jajpur 06728-222648

Gajapati 06815-222943

Dhenkanal 06762-221376

Khurda 06755-220002

Keonjhar 06766-255437

Cuttak 0671-2507842

About Post Author

admin

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

चक्रवाती तूफ़ान फैलिन के बारे में दस तथ्य...

चक्रवाती तूफ़ान फेलिन तेजी से ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों की तरफ बढ़ रहा है. आज शाम छह बजे इस चक्रवाती तूफ़ान के ओडिशा और आंध्र प्रदेश के समुद्री तटों से टकराने की संभावना है. क्या आप जानते हैं इसे यह नाम किसने दिया और इसका मतलब क्या […]
Facebook
%d bloggers like this: