अपराध सिद्ध होने पर भी अयोग्य नहीं ठहराये जा सकेगें सांसद और विधायक…

admin 2

केंद्र सरकार ने दागी सांसदों और विधायकों को अयोग्य करार देने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैंसले को निरस्त करने वाले अध्यादेश को मंगलवार को मंजूरी दे दी.Indian-Parliament-House-Delhi

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में हुई केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय का प्रस्ताव मंजूर किया गया. इस अध्यादेश से अब उच्चतम न्यायालय का वह आदेश लागू नहीं को सकेगा जिसमें कहा गया है कि दो साल या उससे अधिक की सजा के प्रावधान वाले अपराधों में दोषी पाए गए सांसदों और विधायकों को अयोग्य करार दिया जाएगा.

उच्चतम न्यायालय के फैसले को पलटने के लिए सरकार ने संसद के मानसून सत्र में कानून में संशोधन का प्रस्ताव पेश किया था और जन प्रतिनिधित्व (दूसरा संशोधन) विधेयक 2013 राज्यसभा में पेश किया. लेकिन वह विधेयक पारित नहीं हो सका और इसे संसदीय समिति के विचारार्थ भेजा गया. मगर अब अध्यादेश के ज़रिये इसे लागू कर दिया गया है.

उच्चतम न्यायालय के इस फैसले से संसद के कई सदस्य और राज्य विधानसभाओं में कई विधायक अपनी सदस्यता गवां सकते थे.

इस बीच सूत्रों ने बताया कि भ्रष्टाचार के एक मामले में कांग्रेस सांसद रशीद मसूद के खिलाफ अगले महीने सीबीआई की अदालत द्वारा सज़ा सुना दिए जाने पर वह राज्यसभा की सदस्यता खो सकते थे. उच्चतम न्यायालय के फैसले के अंतर्गत ऐसे मामले में सीट गंवाने वाले वह पहले सांसद होते. मगर अब यह नहीं हो सकेगा.

इसी तरह आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को भी फायदा पहुंच सकता है. सीबीआई अदालत 30 सितंबर को चारा घोटाले में लालू के खिलाफ फैसला सुनाने वाली है.

Facebook Comments

2 thoughts on “अपराध सिद्ध होने पर भी अयोग्य नहीं ठहराये जा सकेगें सांसद और विधायक…

  1. यह है देश को चलने वालों की दूरदर्शिता.अपराधियों के संरक्षण के लिए अपने व आने वाली पीढ़ियों के राजनीतिज्ञों हेतु कितना अच्छा प्रयास.आज यदि सर्वहित का कोई प्रशन होता तो न तो व संसद में इतनी जल्दी पास होता, और न ही कैबिनेट कोई अध्यादेश लती.चारा चोर चोर सरताज लालू कप बचने व अपने ही एक पुराने कांग्रेस भक्त पर यह बचाव नियम लागू हो सके इस हेतु आनन् फानन में अध्यादेश भी लाया गया.अब देश की जनता को अपने कल्याण की ज्यादा अपेक्षा इस बात पर ही जोर दे की इन को चुनाव में ही वोट न दे या फिर सड़कों पर आ क्रांति ल इनको सबक सिखाएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

लखनऊ में 27 से सजेगा पुस्तकों का संसार

महिला सशक्तीकरण को समर्पित होगा ग्यारहवां राष्ट्रीय पुस्तक मेला..डॉ. कलाम करेगें उद्घाटन.. नई-पुरानी प्रेमकथाओं पर बहस करेंगे रचनाकार..27 सितम्बर से 6 अक्टूबर तक चलेगा मेला..   -आशीष वशिष्ठ|| लखनऊ, मशीनीकृत होते जीवन में किताबों का महत्व बढ़ा है. पुस्तकें न केवल सबका ज्ञानवर्धन करती हैं बल्कि, हमेशा से व्यक्ति और समाज […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: