एक छोटे से अपराध में जड़ें समायी है मुजफ्फरनगर दंगे की..

admin 3
0 0
Read Time:6 Minute, 24 Second

मुजफ्फरनगर में एक संप्रदाय की लडकी से दूसरे संप्रदाय का युवक छेड़छाड़ करता है तो लडकी का भाई क्रोध में आकर अपनी बहन से बदतमीजी करने वाले युवक की हत्या कर देता है. इसपर दूसरे पक्ष के कुछ युवक मिलकर उस युवती के दो भाइयों को मार डालते हैं. फिर इस अपराध कथा का राजनैतिक फायदा उठाने के लिए एक राजनैतिक दल के कट्टरपंथी संगठन महापंचायत के नाम पर महासभा बुलाते हैं और वहां जमकर दूसरे संप्रदाय के विरूद्ध ज़हर उगला जाता है.muzaffarnagar riots

नतीज़ा वापिस लौटती गुस्साई भीड़ से दूसरे संप्रदाय के लोगों का आमना सामना होता है तो हिंसात्मक उत्पात शुरू जाता है. जिसके चलते कई जिंदगियां दम तोड़ देती हैं और बहुत सी जिंदगियां मौत से जीतने की लड़ाई लड़ने लगती है. कई बच्चे यतीम हो जाते है तो कई सुहागने बेवा हो जाती हैं.

कुल मिला कर एक अपराध से शुरू हुई यह आग धर्म आधारित वोटों के ध्रुवीकरण का हथियार बन जाती है. राजनीति का यह घृणित खेल अभी थमा नहीं है. सपा और भाजपा दोनों इस दंगे को अपने अपने पक्ष में भुनाने में लगी हैं तो कांग्रेस मुजफ्फर नगर के इस दंगे की आग में भाले से बाटियाँ सेंक रही है.

अब यह आग सिर्फ मुजफ्फरनगर में ही नहीं लगी हुई है बल्कि इस आग की ज्वाला सोशल मीडिया को भी जला रही है. एक तरफ कट्टरपंथी तत्व फेसबुक और ट्विटर के ज़रिये धार्मिक भावनाएं भड़का रहे हैं तो दूसरी तरफ कट्टरता के खिलाफ सावचेत करने के लिए भी लोग आगे आ रहे हैं.

प्रसिद्ध लेखक और सामाजिक शास्त्री मोहन श्रोत्रिय अपनी फेसबुक वाल पर इस मुद्दे पर लिखते हैं कि:

“किसी #वहम के शिकार मत होओ, #कांग्रेसियो !

भाजपा-सपा को कोस कर, और दंगों की आग पर हाथ सेंक कर तुम राजनीतिक रोटियां नहीं सेंक पाओगे !

#मुज़फ्फ़रनगर दिल्ली से ज़्यादा दूर नहीं है ! ध्यान है न?

केंद्र में, और दिल्ली में भी, अभी सरकार तुम्हारी ही है. भूल तो नहीं गए?

तुम मज़े लेते रहोगे, तो यूपी को गुजरात बनने से तो नहीं ही रोक पाओगे, दिल्ली में भी इस संकट को न्यौत लोगे. इतनी कम-निगाही ठीक नहीं है, देश के लिए !

बनना-बिगडना, सिर्फ़ तुम्हारा होता, तो कुछ न कहता. न ताली बजाओ, न कोसो उन दोनों को, अपनी सकारात्मक भूमिका अदा करो. हस्तक्षेप करो, सक्रिय-सकारात्मक हस्तक्षेप !”

तो पत्रकार नितिन ठाकुर का कहना है कि “अब तक 14 मर चुके हैं और 40 घायल हैं. हैरान हूं देखकर कि तुम लोगों का खून कितना सस्ता है जो उसे नालियों में बहाने को तैयार बैठे हो. तुम मूलरुप से हिंसक हो. अगर मामला धार्मिक उन्माद का ना हो तब भी तुम अपने रिश्तेदारों, भाइयों और पड़ोसियों का खून किसी ना किसी बात पर बहाते ही हो. तुम्हें तो अपने अवैध हथियारों और अवैध मंशाओं को बाहर निकालने का बहाना भर चाहिए. शर्म करो कि तुम्हारे घर के झगड़े सुलझाने के लिए आर्मी को आना पड़ गया है. पूरा हिंदुस्तान तुम पर थूक रहा है और अब तो विदेशों तक से लोग जानना चाहते हैं कि क्या तुम बुद्धि बेचकर खा चुके हो जो अपने घरों को अपने ही हाथों से जला रहे हो. मुझे अफसोस है कि तुम जैसे लोगों से मेरा रिश्ता है.

सामाजिक कार्यकर्ता मोहित खान कहते है कि “मुज़फ्फरनगर के हालातों को देखने के बाद मेरे एक पत्रकार मित्र का कहना है कि “ये खुशबु है गुजरात की” जो मुलायम के सहयोग से नाक में सड़ांध मार रही है.”

मोहित खान ने अपनी एक अन्य वाल पोस्ट पर लिखा है कि “चलिए मान लिया माहौल भाजपाइयों ने ख़राब किया तो अखिलेश बाबू आप क्या कर रहे हो सरकार में बैठ कर? अगर नहीं संभलता तो हट जाइये आप ज़िम्मेदारी लेते हुए.

और कांग्रेसियों तुम क्या इसमें केवल सपा और भाजपा पर आरोप लगा रहे हो क्या तुम्हारी इतनी औकात नहीं कि तुम्हारी केन्द्रीय सरकार अखिलेश सरकार को बर्खास्त करे जिसके शासनकाल में अभी तक सैकड़ों दंगे हो चुके हैं.

और तुम, भाजपा वालो……..दिल पर हाथ रख कर पूछोगे अपने आप से तो पता तो तुम्हे खुद भी है कि तुम क्या कर रहे हो.

बात एकदम साफ़ है कोई सक्रिय रहकर दंगे भड़का रहा है और कोई हाथ पर हाथ धरकर उन दंगाइयों की मदद कर रहा है. और सबसे बड़ावाला अपने समय का इंतज़ार कर रहा है आखिर उसे भी UP ही चाहिए न.”

इस घटना का सबसे महत्वपूर्ण पहलू यह भी हैं कि स्थानीय पुलिस ने इस अपराध की शुरुआत के समय ही तुरंत कार्रवाई की होती तो यह हालात ही पैदा नहीं होते. मगर पुलिस के पास समय कहाँ होता है त्वरित कार्रवाई करने का.

About Post Author

admin

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

3 thoughts on “एक छोटे से अपराध में जड़ें समायी है मुजफ्फरनगर दंगे की..

  1. इएस के पहले ४३ दंग्गे कैसे हुए किस कारन हुए सत्ता का नशा मुसल्म्नाओ को उन्मादी बना रहा है अखिलेश सर्कार उनेह पूरा मौका दे रही हिन्दू मार खा रहा है कियो कोई गह्तन बताईये जन्हा हिन्दू आक्रमक या पहल कर के आगे यहो महेश मुस्लमान ही आक्रिमक हो कर आतःहै उन दो बच्चो को किस तरह मर है व् वी दी ऊ [वदो] आप ने दखा है इएन्सनिय शर्सार हो जायेगी जानवर भी शर्मा जाए इएस तरह मार गया है उन बच्चो को किय हिन्दू अपनी माँ बहिनी की रक्छा भी नहीं करे मुसलमानों के रह्मोकर्न्म पर छोड़ दे अपने परिवार को पहल मुसल्मन की है पूरा उत्तर प्रदेश जल रहा है दन्नगो में सर्कार कोय कर रहीथी केवल हिन्दू ही मार खता रहे एसा ही चाहते है सभी लोग आखिर हिन्दुयो के साथ यस व्यवहार कियो

  2. अच्छा लिखा हुआ बैलेंस लेख है ,शुक्रिया सारी घटना को सही से उकेरने के लिए ,बाकी सब हिन्दू भाई और मुसलमान भाई मिल कर असामाजिक तत्वों का मुकाबला करे, और अफवाहों को फेलने से रोके .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

किराना घराना देने वाला मुजफ्फरनगर मज़हबी सरहदों से ऊपर रहा है...

मुजफ्फरनगर में साम्प्रदायिक दंगे को अपनी अलग निगाह से देखा है पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता तथा चिन्तक मयंक सक्सेना ने अपनी फेसबुक वाल पर.. -मयंक सक्सेना| 13 सदी पुरानी ही बात है…लेकिन उसी दौरान शायद एक दरबारी संगीतज्ञ ध्रुपद की ख़याल गायकी के जन्मदाता गोपाल नायक ने दुनिया की सबसे […]
Facebook
%d bloggers like this: