मेरे संपादक , मेरे संतापक: ऐ काकुल-ए-शब रंग तेरी उम्र बड़ी है…

admin

मेरे संपादक , मेरे संतापक -19

-राजीव नयन बहुगुणा||

नीम अँधेरे में एक गाडी की लाईट को बदहवास अपना पीछा करते देख मेरे पिता सुन्दर लाल बहुगुणा को आभास हो गया कि हो न हो मेरे कामरेड मुझे तलाशते इस नरक लोक तक आ पंहुचे हैं. उन्होंने खुद को पुलिस के जवानो के शिकंजे से छुड़ाने के लिए भरपूर जोर लगाया जो उन्हें दबोच कर बैठे थे. डाक्टर ने सुई लगाने की धमकी दी, जो अगली सीट पर बैठा था. हमारा वाहन और करीब आ पंहुचा तो मेरे फादर ने बुरी तरह चीखने चिल्लाने का ड्रामा शुरू किया.

राजीव नयन बहुगुणा
राजीव नयन बहुगुणा

फिर छीना – झपट शुरू हुयी. काबू करने की कोशिश कर रहे डाक्टर की भुजा पर उन्होंने जोर से दांत से काट खाया. प्रत्युत्तर में सुरक्षा सैनिकों ने उन्हें घूंसों से नवाज़ा और नाखूनों से खुरच दिया. जगूड़ी की उक्ति – भय भी शक्ति देता है, को चरितार्थ करते हुए वह एम्बुलेंस से कूदने लगे, तू डाक्टर है या जल्लाद है, न मुझे पानी पीने दे रहा है, और न पेशाब करने दे रहा है, कहते हुए वह बाहर निकल आये. शरीर पर वस्त्र के नाम पर केवल एक कच्छा था. पल भर में हम पंहुच गए. कई सप्ताह से बुभुक्षु, दुर्बल, वार्धक्य से कृष मेरे पिता को यह भी ध्यान नहीं रहा कि उनका विवाहित युवा पुत्र उनके सामने है, जिसने रूढी वादी गढ़वाली ब्राह्मण परिवार की परम्परा के तहत इससे पहले अपने पिता के गुप्तांगों को कभी विमोचित नहीं देखा है. मेरे पिता नीम बेहोशी में थे .

( जारी )

Facebook Comments
No tags for this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

देश में जितना "आम आदमी" का शोषण, मीडिया में उतनी ही "आम पत्रकार" की दुर्गति...

-अभिरंजन कुमार|| हम मीडिया वाले समूची दुनिया के शोषण के ख़िलाफ़ तो आवाज़ उठाते हैं, लेकिन अपने ही लोगों पर बड़े से बड़ा पहाड़ टूट जाने पर भी स्थितप्रज्ञ बने रहते हैं. यह दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मनाक है. -टीवी 18 ग्रुप में इतनी बड़ी संख्या में पत्रकारों की छंटनी के बाद […]
Facebook
%d bloggers like this: