किसने दे दिया आपको ग़रीबों से ऐसा बेशर्म खिलवाड़ करने का अधिकार…?

admin

योजना आयोग द्वारा गावों में सत्ताईस रुपये और शहरों में तैंतीस रुपये तैंतीस पैसे कमाने वालों को गरीब न मानने की ताज़ा रिपोर्ट ने जहाँ पूरे देश में बवंडर खड़ा कर दिया है वहीँ कुछ कांग्रेस नेताओं की बेतुकी बयानबाज़ी ने आम नागरिकों के गुस्से पर पैट्रोल छिड़कने का काम किया है.

फेसबुक पर प्रकाशित एक चित्र
फेसबुक पर वायरल हो रहा एक चित्र सन्देश

गौरतलब है कि आज कांग्रेस के एक नेता रशीद मसूद ने बयान दिया था कि दिल्ली में पांच रुपये में भर पेट भोजन किया जा सकता है तो अभिनेता से नेता बने राज बब्बर ने कहा कि मुंबई में बारह रुपये में पेट भर भोजन उपलब्ध हो जाता है.

इन दोनों नेताओं द्वारा की गई इस बेहूदा बयानबाज़ी की देश भर में आलोचना हो रही है. फेसबुक पर तो लोगों का गुस्से से बुरा हाल है. जिसके चलते फेसबुक वाल रशीद मसूद और राज बब्बर के खिलाफ प्रतिक्रियाओं से भरी पड़ी है.

गुस्सा सिर्फ आम लोगों में ही नहीं है बल्कि बुद्धिजीवियों में भी है और वे भी इन दोनों नेताओं के प्रति अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर रहे हैं.

देश के नम्बर एक न्यूज़ चैनल के लम्बे समय तक न्यूज़ डायरेक्टर रहे वरिष्ठ पत्रकार कमर वहीद नकवी ने अपनी वाल पर पोस्ट किया है कि “बक़ौल राज बब्बर मुम्बई में एक आदमी को 12 रुपये में भोजन मिल सकता है. रशीद मसूद कहते हैं कि दिल्ली में तो पाँच रुपये में ही खाना मिल जाता है. और ‘दिल्ली आजतक’ के मुताबिक़ कांग्रेस विधायक मुकेश शर्मा का कहना है कि दिल्ली में तो मात्र 2 रुपये में भी पेट भरा जा सकता है.

किस दुनिया में रहते हैं ये काँग्रेसी? और जनता को क्या समझते हैं?

आप पिछले साठ सालों से देश के ग़रीबों को बेवक़ूफ़ बना रहे हैं. लोग सब कुछ सहते रहे तो क्या आप देश के ग़रीबों और उनकी ग़रीबी का इस तरह मखौल उड़ायेंगे? किसने दे दिया आपको ग़रीबों से ऐसा बेशर्म खिलवाड़ करने का अधिकार?

क़मर वहीद नक़वी
क़मर वहीद नक़वी

काँग्रेस को देश के ग़रीबों से माफ़ी माँगनी चाहिए!”

कमर वहीद नकवी की इस पोस्ट पर टिप्पणी करते हुए न्यूज़24 चैनल के न्यूज़ डायरेक्टर अजीत अंजुम कहते हैं कि “पांच रुपये में अक्ल और समझदारी कहीं मिलती है तो बताएं ….दोनो आइटम एक – एक प्लेट रशीद मसूद के लिए मंगवाना है ……क्योंकि पांच रुपये से कम में खाना खा खाकर उनके भीतर अक्ल और समझदारी का स्टॉक खत्म हो गया है ….पांच रुपये से ज्यादा का बजट उनका नहीं है ….इसलिए महंगे दुकानों का पता न बताएं …”

नकवी द्वारा की गई इस पोस्ट में लोग बड़ी तेजी अपनी टिप्पणियाँ ही नहीं कर रहे बल्कि उनकी इस पोस्ट को अपनी वाल पर शेयर भी कर रहे हैं, जिसके चलते नकवी की पोस्ट वायरल की मानिंद फ़ैल रही है.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

लव-लैटर की आफतें

-आलोक पुराणिक|| पुराने दिन याद आ गये, जब मुहल्ले -कालोनी के आवारा छोकरे अपने लिखे लव-लैटर पकड़े जाने पर डांट खाया करते थे. सीन यूं होता था-गुड्डी लैटरयुक्त गुड़ी-तुड़ी लिफाफे को उठा पाये, उससे पहले उसके पिताजी लैटर उठा लेते थे. लैटर में नाम बरामद होता था पप्पू का. क्यों […]
Facebook
%d bloggers like this: