नक्सली हमला : आंसू बहाने तक सीमित न हों हमारी संवेदनाएं

admin 2

-अनुराग मिश्र ||

दो दिन पूर्व छत्तीसगढ़ में कांग्रेसी नेताओ की परिवर्तन रैली पर हुए नक्सली हमले के बाद राज्य से लेकर केंद्र तक की सरकारें हिली हुई है। इतना ही नहीं इन हमलों के बाद एक बार फिर ख़ुफ़िया तंत्र और सुरक्षा एजेंसियों की कार्यशैली पर सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। ठीक वैसे ही निशान जैसे वर्ष 2010 में छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में सीआरपीऍफ़ कैम्प पर हुए नक्सली हमले के बाद खड़े हुए थे। उस समय नक्सलियों के खिलाफ कार्यवाही के दावें बड़े जोर शोर से किये गए था। राज्य की भाजपा सरकार से लेकर केंद्र की कांग्रेस सरकार ने नक्सलियों पर सख्त कार्यवाही का भरोसा दिलाया था। पर नतीजा ढाक के तीन पात जैसा रहा। सवाल यह उठता है कि तेरह राज्यों के लगभग तीन सौ से अधिक जिलों में अपनी पैठ जमाए बैठे नक्सलियों से निपटने और उनके खात्मे के लिए कोई ठोस रणनीति अब तक क्यों नहीं बनी।photo_pages_2_1369590134

इसका सीधा जवाब है इस मसले का भी राजनैतिककरण हो जाना। दरअसल किसी भी दल ने इस मसले पर गंभीरता से विचार किया ही नहीं । वो चाहे देश की सत्ता पर राज करने वाली कांग्रेस हो या फिर राज्य की सत्ता पर आसीन भाजपा हो। वोट बैंक की राजनीति में दोनों ही राजनैतिक दलों के आकाओं ने यह सोचने की जहमत नहीं की कि आम आदमी, राजनेताओं और सुरक्षा बलों के साथ खूनी होली खेलने वाले और लाशो का ढेर लगाकर प्रदेश में दहशत का पर्याय बन जाने वाले नक्सलियों का समाधान क्या हो ? देश के राजनैतिक इतिहास में इससे पूर्व शायद ही कोई ऐसी बड़ी घटना घटी हो जिसमे एक साथ इतने नेताओं को नक्सलियों ने मौत के घाट उतार दिया हो। ऐसे में यह विचार करने योग्य प्रश्न है कि आखिर हमारी सुरक्षा व्यवस्था में कहां सुराख रह गया जिसके चलते इतनी बड़ी वारदात हो गयी। naxal_chhattisgarh_attack8
अगर हम परिस्थतियों का अध्ययन करें तो पाएंगे कि यह घटना सुरक्षा और खुफियां एजेंसियों की आपसी सामंजस्य की कमी का परिणाम हैं। पर कोई भी घटना की जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है। यहाँ गौर करने योग्य बात ये है कि घटना की घटित होने से लेकर मीडिया में सुर्ख़ियों बने रहने तक घटना के घटित होने के लिए जिम्मेदार सभी लोग इस तरह की घटनाओ पर लगाम लगाने के लिए बेहतर और कारगर योजना बनाने की बात करते है पर समय के साथ सारे दावे और योजनाये कागजो की खूबसूरती बढ़ाने की काम आती हैं। इसलिए बेहतर होगा नक्सली हमले जिम्मेदार संस्थाएं यानि हमारी सरकारे, सुरक्षा एजेंसीज और ख़ुफ़िया विभाग अपनी कथनी और करनी में एकरूपता रखे। यह वक्त हाथ पर हाथ धरकर बैठने या कमजोर होने का नहीं बल्कि उचित रणनीति बनाकर नकसली समस्या को समूल जड़ से खत्म करने का है। अन्यथा वो दिन दूर नहीं होगा जब राज्यों से निकलकर नक्सली लोकतान्त्रिक अस्मिता के प्रतीक हमारी राजधानी दिल्ली पर भी हमले का साहस जुटा लेंगे।
Facebook Comments

2 thoughts on “नक्सली हमला : आंसू बहाने तक सीमित न हों हमारी संवेदनाएं

  1. इन बेचारे नेताओं को तो एक दुसरे की टांग खींचने से ही फुर्सत नहीं.ये कोई भी इलाज क्यों देखेंगे.आज कांग्रेसी काफिले पर हमले से केंद्र सरकार कुछ हिली है,और अब और सुरक्षा बल भेजने को राजी हो गयी है.इस बार तो सोनिया,मनमोहनसिंह व राहुल गाँधी को जा कर आंसू बहन याद आ गया,मुआवजा देना भी याद आ गया,इस से पहले मरने वाले आम आदमियों ,सुरक्षा बालों के सैनिकों के लिए कभी यह बातें याद नहीं आई,रमण सिंह को भी शायद बर्खास्तगी के डर ने मुआवजा देना याद दिला दिया,अन्य राज्य भी इसी प्रकार की नीतियाँ अपनाते रहें हैं,
    नक्सली समस्या का एक मात्र हल,उन्हें समाज में मुख्य विचारधारा में लाना होगा.उनके रोजगार दिलाना होगा.यह प्रयास आज कोई भी सरकार नहीं कर रही.कश्मीर में यह सब क्यों हो रहा है,अन्य जगह क्यों नहीं,यह सभी लोग जानते हैं.पर जो सरकार नक्सलियों से नहीं निपट सकी,और यह समस्या दिन बी दिन बढती ही जा रही है वह आतकवाद से क्या व कैसे निपटेगी,यह सवाल भी खड़ा हो जाता है और विचारनीय बिंदु है.

  2. इन बेचारे नेताओं को तो एक दुसरे की टांग खींचने से ही फुर्सत नहीं.ये कोई भी इलाज क्यों देखेंगे.आज कांग्रेसी काफिले पर हमले से केंद्र सरकार कुछ हिली है,और अब और सुरक्षा बल भेजने को राजी हो गयी है.इस बार तो सोनिया,मनमोहनसिंह व राहुल गाँधी को जा कर आंसू बहन याद आ गया,मुआवजा देना भी याद आ गया,इस से पहले मरने वाले आम आदमियों ,सुरक्षा बालों के सैनिकों के लिए कभी यह बातें याद नहीं आई,रमण सिंह को भी शायद बर्खास्तगी के डर ने मुआवजा देना याद दिला दिया,अन्य राज्य भी इसी प्रकार की नीतियाँ अपनाते रहें हैं,
    नक्सली समस्या का एक मात्र हल,उन्हें समाज में मुख्य विचारधारा में लाना होगा.उनके रोजगार दिलाना होगा.यह प्रयास आज कोई भी सरकार नहीं कर रही.कश्मीर में यह सब क्यों हो रहा है,अन्य जगह क्यों नहीं,यह सभी लोग जानते हैं.पर जो सरकार नक्सलियों से नहीं निपट सकी,और यह समस्या दिन बी दिन बढती ही जा रही है वह आतकवाद से क्या व कैसे निपटेगी,यह सवाल भी खड़ा हो जाता है और विचारनीय बिंदु है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

आईपीएल फाइनल फिक्स था और सबकुछ बैटिंग के हिसाब से निपट गया..

सबसे खतरनाक बात यह है कि क्रिकेट कीबीमारी कासंक्रमण अब दूसरे खेलों में तय है क्योंकि हाकी, फुटबाल और बैडमिंटन समेत तमाम खेलों के प्रीमियर लीग के तमाशे की शुरुआत हो चुकी है। -एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास​|| आईपीएल फाइनल मैच खोलकाता के इडेन गार्डन में जुआरियों की पसंद के मुताबिक मुंबई […]
Facebook
%d bloggers like this: