मंत्री के आदेश पर बनेगी पत्रकारों की कुंडली..

admin

-दिलीप सिकरवार||

मध्य प्रदेश शासन के जनसंपर्क विभाग को उन्ही के मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने फरमान भेजा है. जिसके मुताबिक अब तहसील स्तर तक के कलम घिसने वाले भाइयों की कुंडली तैयार की जाये. इससे अहसास हो रहा है कि चुनाव करीब हैं और ऐसे में मीडिया की अनदेखी सरकार को भारी न पड़ जाये, इसलिए पत्रकारों की जमात सूचीबद्ध कर ली जाये. Laxmikant_Sharma0
शायद शर्मा जी को यह मालूम नहीं है कि पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ है. शोषण का शिकार है. अखबार मालिको का सताया है. एक पत्रकार किसी आम व्यक्ति की समस्या के प्रति तो गंभीरता से लड़ता है, किन्तु उसका हक सदैव मारा जाता है. मगर बेचारा चौथा स्तम्भ हमेशा खामोश रहता है.
पत्रकारों की याद ऐसे भला कैसे आ सकती है. जो जनसंपर्क विभाग पत्रकारों को प्रेसनोट भेजने में लकवाग्रस्त दिखता है, वो इतना फिक्रमंद भला कैसे हो गया? खबर मिली कि मंत्री जी की उपस्थिति में राजधानी में एक बैठक हुई. इसी का असर चिठ्ठी के रूप में पत्रकारों तक पहुंचा. जिसका अर्थ यह है- तहसील स्तर से लेकर जिले में कार्य करने वाले पत्रकारों की सूचि तैयार हो रही है. इसलिए वाकई लिखने वाले पत्रकारों को अपनी पूरी जानकारी यानि नाम, संस्थान का नाम, परिचय पत्र की कॉपी, इ मेल पता, मोबाइल नंबर, आवास का पता दर्ज करना होगा. आश्चर्य की बात है की प्रदेश के जनसंपर्क दफ्तरों में शायद ही पत्रकारों का ब्यौरा होगा. लेकिन मंत्रीजी के आदेश से कम से कम पत्रकार तो सूचीबद्ध हो जायेंगे. हालाँकि इसमें पत्रकारों का कितना लाभ होगा यह तो भगवन जाने. हाँ! चुनावी विज्ञप्ति जरूर आपको मिल जायंगी.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

महाघोटाले की 'सोसायटी'

मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार भोपाल की रोहित नगर सोसायटी में प्लॉटों के फर्जीवाड़े पर कोई जांच नहीं करा रही है. क्या इसलिए कि यहां प्लॉट पाने वालों में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के रिश्तेदार और करीबी लोग शामिल हैं? तहलका में प्रकाशित शिरीष खरे की रिपोर्ट..   यह वाकया एक […]
Facebook
%d bloggers like this: