क्या सी.बी.आई. कर्म सिंह हत्याकांड में कर रही है लीपापोती?

admin

कांग्रेस की एजैंट होने के आरोपों से घिरी सी.बी.आई. आखिरकार क्यों नही करती कांग्रेसी विधायकों से पूछताछ…

-अनिल लाम्बा||

करनाल,दो साल पहले गांव कंबोपूरा के पूर्व सरपंच कर्म सिंह हत्याकांड के असली दोषियों का कोई भी चेहरा कांग्रेस सरकार जनता के सामने लाने में असफल तो रही, लेकिन अब हाईकोर्ट के निर्देश के बाद जांच में जुटी सी.बी.आई. भी कर्म सिंह हत्याकांड में क्या लीपापोती कर रही है?jiley ram sharma

इस पर प्रदेश के लोगों की नजर है. विपक्षी पार्टियों द्वारा सी.बी.आई. को पहले से ही कांग्रेस की एजैंसी बताया जा चुका है. इन आरोपों से घिरी सी.बी.आई. आखिरकार कांग्रेसी विधायकों से पूछताछ क्यों नही कर रही. यह अपने आप में एक बड़ा सवाल बना हुआ है. अभी तक सी.बी.आई. ने न तो प्रदेश के o.p. jainपूर्व परिवहन मंत्री तथा मौजूदा विधायक ओम प्रकाश जैन से बात की ओर न ही मौजूदा विधायक और पूर्व संसदीय सचिव जिले राम शर्मा से. माना जा रहा है कि जिस तरह सी.बी.आई. कर्म सिंह हत्याकांड प्रकरण को लेकर दिशा अपना रही है उससे आने वाले दिनों में यह कहना मुश्किल है कि कर्म सिंह के असली हत्यारे पकड़ में होंगें. सवाल यह भी उठ रहा है कि आखिरकार सी.बी.आई. ने मृतक कर्मसिंह के परिजनों से तो पूछताछ कर ली और पोस्टमार्टम करने वाले डाक्टरों से बातचीत भी की गई, लेकिन हत्या के आरोपों से घिरे दोनों कांग्रेसी विधायकों से पूछताछ करने की जहमत नही उठाई गई.

क्या सी.बी.आई. के अधिकारी यह बता सकते है कि आखिरकार दोनों विधायकों से सिरे से पूछताछ क्यों नही की जा रही. क्योंकि पूर्व में क्राईम ब्रांच भी दोनों विधायकों से पूछताछ कर चुकी है. काबिलेगौर है कि मंगलवार को सी.बी.आई. की टीम करनाल में उस स्थान पर पहुंची थी. जहां कर्मसिंह घायल अवस्था में पड़ा था. इसके अलावा सी.बी.आई. काफी समय पहले भी जांच के लिए करनाल आ चुकी है, लेकिन सी.बी.आई. जिस तरह घटनास्थल के आसपास झाडिय़ों को साफ कर वक्त बर्बाद करती रही उससे साफ जाहिर है कि हत्याकांड की असली जांच अभी तक अटकी हुई है.

जब तक आरोपों से घिरे विधायकों से कड़ी पूछताछ नही की जाती तब तक इस मामले की सच्चाई सामने आना भी मुश्किल है. काबिलेगौर है कि घायल कर्मसिंह को अस्पताल जब ले जाया गया था तो उसने दम तोड़ दिया था. उसके पेट पर सूईयों के निशान मिले थे. सरकारी एजैंसी क्राईम ब्रांच ने दोनों विधायकों को बड़ी राहत देते हुए यह कह कर क्लीन चिट दी थी कि इस हत्याकांड में दोनों का कोई हाथ नही है, लेकिन हाईकोर्ट ने यह सवाल उठाया था कि आखिर आरोप दोनों पर क्यों लगे और पेट पर सूईयों के निशान कैसे आए. जिसके बाद यह जांच सी.बी.आई. को सौंपी गई.

मंगलवार को करनाल में पहुंची सी.बी.आई. ने कई घंटे झाडिय़ों में व्यर्थ कर दिए. उसे जो चाकू बरामद हुए उससे भी कुछ हासिल होने वाला नही लग रहा क्योंकि चाकूओं का प्रयोग भले ही हत्या के मामले में हुआ हो, लेकिन यह चाकू इतने पुराने हो गए है कि यह पता लगाना भी नामुकिन है कि इन चाकूओं का प्रयोग हत्या में लाया गया था या नही, लेकिन सी.बी.आई. के अधिकारी अभी भी कांग्रेसी विधायकों से पूछताछ न करके उन स्थानों पर समय खराब कर रहे है जहां से कुछ हासिल होने वाला नही है. इस हत्याकांड के दोषियों को लेकर पूरे प्रदेश के लोगों की निगाहें इस पर टिकी है. अब देखना यह होगा कि वास्तविक जांच से भटकी सी.बी.आई. हाईकोर्ट में पेश होकर क्या सबूत सामने लाती है.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

अनुष्का रविशंकर भी बचपन में हुई थी यौन उत्पीडित...

दिवंगत सितारवादक पंडित रविशंकर की बेटी अनुष्का शंकर ने सनसनीखेज राज फ़ाश  किया है कि बचपन में वो भी यौन उत्पीडन का शिकार हुई हैं और उनका यौन उत्पीडन उनके माता पिता के सबसे विश्वसनीय व्यक्ति ने किया. यौन उत्पीडन का यह सिलसिला काफी लम्बे समय तक चलता रहा. अनुष्का […]
Facebook
%d bloggers like this: