केंद्रीय विश्वविद्यालय के मुद्दे पर कांग्रेस नेता आमने सामने..

admin

हिमाचल कांग्रेस नेताओं द्वारा केन्द्रीय विश्वविद्यालय को लेकर राजनीतिक दांव पेच शुरू हो गए हैं तो पूर्व मंत्री एवं वर्तमान देहरा से भाजपा विधायक रविंद्र सिंह रवि ने कहा कि प्रदेश की पूर्व धूमल सरकार ने इस विश्वविद्यालय को देहरा में ही स्थापित करने का एलान किया है परंतु केंद्रीय विश्वविद्यालय को लेकर कांग्रेस के नेताओं द्वारा राजनीति की जा रही है, उन्होंने कहा कि केंद्रीय विश्वविद्यालय देहरा का है तथा देहरा में ही रहना चाहिए.

-धर्मशाला से अरविन्द शर्मा||

केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना को लेकर हिमाचल में अभी तक जहां काग्रेंस और भाजपा में लड़ाई cuhp1-imgचल रही थी वहीं अब इस मुद्दे पर कांग्रेस  के ही नेता आमने सामने हो गए हैं. प्रदेश  में काग्रेंस की सरकार बनने के साथ ही पहली बार मंत्री बने धर्मषाला से काग्रेंस के विधायक सुधीर शर्मा ने केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना को लेकर दो दिन पहले ही अपनी पत्रकार वार्ता में  धर्मषाला में बयान दिया जिसमें उन्होंने इसकी स्थापना को धर्मशाला को ही एक मात्र विकल्प बताया लेकिन वहीं इसके एक दिन बाद ही ज्वालामुखी से काग्रेंस विधायक संजय रतन ने केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना को लेकर देहरा की वकालत करके एक नया विवाद खड़ा कर दिया है. संजय रतन ने ज्वालामुखी में पत्रकारों के साथ बातचीत में केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए पूर्व भाजपा सरकार द्वारा लिए गए फैसले पर मोहर लगाते हुए देहरा के लिए 70 फीसदी हिस्सा स्थापित करने की बात कहकर अपनी ही सरकार के मंत्री के बयान का कटाक्ष कर लोगों के बीच चर्चा छेड़ दी है. संजय रतन के इस बयान के बाद काग्रेंस के मंत्री और विधायक में जंग छिड़ गयी है.

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना का मुद्दा पूर्व में भाजपा सरकार के कार्यकाल में भी खूब उलझा रहा. भाजपा और कागे्रंस इसकी स्थापना को लेकर धर्मषाला और देहरा के बीच ही उलझी रही. वहीं अब संजय रतन के इस बयान के बाद काग्रेंस के मंत्री और विधायक में इस मुद्दे पर खींचतान षुरू हो गई है

कांग्रेस के मंत्री व विधायक के बीच केंद्रीय विश्वविद्यालय को लेकर शुरु हुआ यह राजनीतिक का खेल देहरा व धर्मशाला की जनता के बीच चर्चा का विषय बन गया है. लोगों में इस बात को लेकर जोरों पर चर्चा है कि एक और जहां कांग्रेस के मंत्री केंद्रीय विश्वविद्यालय को धर्मशाला में स्थापित करने का एलान कर रहे हैं तो वहीं कांग्रेस के विधायक अगले दिन केंद्रीय विश्वविद्यालय को देहरा में स्थापित करने का एलान कर रहे हैं. गौरतलब है कि पूर्व भाजपा सरकार ने केंद्रीय विश्वविद्यालय को देहरा में स्थापित करने का एलान किया था जिसके लिए देहरा के निकट ही एक भूमि का चयन भी कर लिया गया था, परंतु उस दौरान कांग्रेस के नेताओं ने केंद्रीय विश्वविद्यालय को धर्मशाला में स्थापित करने का पूरा जोर लगाया तथा कांग्रेस के नेताओं ने यह भी कहा था कि केंद्र ने पहले ही केंद्रीय विश्वविद्यालय को धर्मशाला में स्थापित करने करने को कहा ऐसे में उसे देहरा में स्थापित करने का सवाल ही पैदा नही होता. इसके लिए कांग्रेस के नेताओं द्वारा धर्मशाला के निकट भूमि पर भी अपनी सहमति प्रकट की थी मगर पूर्व भाजपा सरकार ने साफ शब्दों में कांग्रेस से कहा था कि केंद्रीय विश्वविद्यालय देहरा में ही स्थापित होगा. हालांकि पूर्व भाजपा सरकार के समय में केंद्रीय विश्वविद्यालय को लेकर जो राजनीति का खेल शुरु हुआ उसके कारण यह विश्वविद्यालय अभी तक न तो देहरा में ओर न ही धर्मशाला में स्थापित हो सका है. परंतु प्रदेश में अब कांग्रेस की सरकार बनने के साथ ही एक बार फिर से केंद्रीय विश्वविद्यालय को लेकर राजनीति का खेल शुरु हो चुका है. अब देखना यह है कि इसमें धर्मशाला के मंत्री कामयाब होते हैं या फिर ज्वालामुखी के विधायक. क्योंकि दोनों ही अपने-अपने विस क्षेत्र की जनता पर हावी होने के लिए इसे अपने-अपने क्षेत्र में स्थापित करने के जोरअजमाईश के खेल को शुरु कर चुके हैं.

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

प्रतिरोध और आंदोलन परदे पर...!

-एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास|| दिल्ली सामूहिक बल्त्कार के बाद इस उपमहाद्वीप में लिंग वैषम्य व नारी उत्पीड़न पर विमर्श का अत्यंत संवेदनशील माहौल बना है. भारतीय दंड विधान संशोधित करने की मुहिम तेज है. पर खुले बाजार की उपभोक्ता संस्कृति में देहमुक्ति की लड़ाई और ज्यादा कठिन है पुरुष एकाधिकारवादी वर्चस्व […]

आप यह खबरें भी पसंद करेंगे..

Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: