चंडीगढ़ से द संडे गार्जियन शुरू

admin 1
-जयश्री राठौड़||
देश के पुराने और प्रतिष्ठित अंग्रेजी समाचार पत्र द संडे गार्जियन का चंडीगढ़ से प्रकाशन शुरू हो गया है। संस्करण का लोकार्पण प्रधान संपादक एमजे अकबर, पंजाब के राज्यपाल शिवराज पाटिल, मुख्यमंत्री प्रकाशसिंह बादल, हरियाणा के राज्यपाल जगन्नाथ पहाडिय़ा, मुख्यमंत्री भूपेंद्रसिंह हुड्डा ने किया। कुछ समय पहले गार्जियन को आज समाज और इंडिया न्यूज समूह ने ले लिया था।
अंबाला के कांग्रेस विधायक विनोद शर्मा के स्वामीत्व वाला समूह अब अंग्रेजी में स्थापित होने के प्रयास में है। इसमें कितना सफल होता है यह तो समय ही बताएगा लेकिन उसे यहां कड़ी चुनौती रहेगी। यहां से दैनिक ट्रिब्यून, हिंदुस्तान टाइम्स, टाइम्स आफ इंडिया, इंडियन एक्सप्रेस और कुछ माह पहले शुरू हुआ डेली पोस्ट है। इस मौके पर हरियाणा के मुख्यमंत्री  भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने कहा कि हम वैश्वीकरण और सूचना प्रौद्योगिकी के अपूर्व विकास के आंशिक प्रभावों की नई चुनौतियों का सामना कर रहे हैं।  इससे जुड़े अन्य मुद्दे हैं, जिन पर हमारे लोकतंत्र के सभी अंगो को मंथन करना चाहिए। इन चुनौतियों से निपटने के  लिए मीडिया सहित हम सब को रचनात्मक, सुधारात्मक और निष्पक्ष दृष्टिकोण अपनाने की आवश्यकता है। उन्होंने एम.जे.अकबर और ‘दि सण्डे गार्जियन’  चंडीगढ़ संस्करण निकालने वाले उनके सहयोगियों को बधाई और शुभकामनाएं दीं। एम.जे.अकबर ने जनवरी, 2010 में दिल्ली में दि सण्डे गार्जियन का शुभारम्भ किया था। हरियाणा के राज्यपाल जगन्नाथ पहाडिय़ा ने कहा कि मीडिया को निष्पक्ष भूमिका अदा करनी चाहिए। संडे गार्जियन अपने इस मकसद में खरा उतरने का प्रयास करेगा,ऐसी मेरी उम्मीद है।
पंजाब के राज्यपाल शिवराज पाटिल ने कहा कि संडे गार्जियन का मीडिया में अपना विशेष स्थान रहा है। चंडीगढ़ संस्करण शुरू करने पर मेरी समूह को बधाई। वह उम्मीद करते हैं कि समाचार पत्र सच को सच और गलत को गलत कहने की हिम्मत दिखाएगा। आज ऐसी ही पत्रकारिता और पत्रकारों की जरूरत है। पंजाब के मुख्यमत्री प्रकाशसिंह बादल ने समूह को बधाई देते हुए कहा कि आशा है मीडिया के मानदंडों पर खरा उतरने के लिए उसे पूरी तरह से स्वतंत्रता दी जाएगी।
Facebook Comments

One thought on “चंडीगढ़ से द संडे गार्जियन शुरू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

क्यों न इस दशहरे अपने भीतर के रावण को मारा जाये..

दहन करें अपने भीतर के रावणत्व का..तभी है विजयादशमी की सार्थकता… – डॉ. दीपक आचार्य विजयादशमी पर्व अर्थात वह दशमी जो दस प्रकार के शत्रुओं, दसों दिशाओं में व्याप्त असत्य और बुराइयों पर सत्य की विजय का स्मरण कराता है। हर साल आने वाला दशहरा हमें कुछ न कुछ संदेश […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: