दिल्ली में “स्लटवॉक” हुआ पूरे कपड़ों में, “निराश” चैनलों ने लिया विदेशी फूटेज का सहारा

admin

 

जब पोज दिया स्लट ड्रेस्ड फिरंगन ने तो टूट पड़ी मीडिया

कभी दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने पुलिस का बचाव करते हुए कहा था कि राजधानी की लड़कियों को भड़काऊ कपड़े नहीं पहनने चाहिए। रविवार को हुई स्लट रैली ने शायद शीला को करारा जवाब दिया जब पूरी दुनिया से कदम मिलाने के बावजूद लड़कियों ने शालीन कपड़े ही पहने। सुबह जब सैकड़ों महिलाएं सड़कों पर उतरीं तो उनका मकसद था महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा का विरोध।

किसी भी एंगल से स्लट तो खोजना ही था

 

 

हालांकि स्लटवॉक नाम से दुनिया भर में जारी इस आंदोलन का नाम सारी सुर्खियां ले उड़ा। अंग्रेजी शब्द स्लट को गाली के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है. ऐसी स्लटवॉक दुनिया के कई बड़े शहरों में हो चुकी है। इसकी शुरुआत कनाडा के टोरंटो में हुई जब एक पुलिस अफसर ने कहा कि महिलाओं को यौन हिंसा से बचने के लिए स्लट यानी सेक्स वर्करों जैसे कपड़े पहनने से बचना चाहिए।

कैमरामैनों को निराश ही किया ऐसे प्रदर्शनों ने

 

शहर के बीचों-बीच “बेशर्मी मार्च” के नाम से जंतर-मंतर पर यह रैली कड़ी सुरक्षा के बीच हुई। हालांकि दुनिया के बाकी शहरों की तरह यहां की महिलाओं ने रैली के दौरान कम कपड़े नहीं पहने थे। इस आंदोलन में शामिल हुईं एक घरेलू महिला निष्ठा सिंह कहती हैं, “असली दिक्कत समाज की सोच में है। महिलाओं के मामले में वह दोहरे मापदंड अपनाता है। पुरुषों को तो खास तरह के कपड़े पहनने या न पहनने के लिए कभी नहीं कहा जाता.”

हर अनार पर टूट पड़े सैकड़ों बीमार

 

लेकिन मीडिया ने खोज-खोज कर हॉट मैटेरियल ढूंढा और अपने चैनलो व अखबारों के लिए तस्वीरें भेज दीं। जब टीवी चैनलों ने इन्हें भी अपर्याप्त माना तो आखिरकार एजेंसियों से मिली विदेशों की फूटेज दिखाने लगे। यही हाल अखबारों का भी रहा। हालांकि दिल्ली स्लटवाक की आयोजकों ने कुछ विदेशी मेहमानों को भी बुला रखा था,  जिन्होंने फोटो सेशन भी रखा, लेकिन ऐसे मौकों पर कैमरामैन गिद्ध की तरह टूटते नजर आए।

दिल्ली में इस आंदोलन के आयोजकों का कहना है कि महिलाओं के पहनावे को यौन हिंसा का बहाना नहीं बनाया जा सकता. भारत में भी महिलाओं को कपड़ों को लेकर कई बड़े नाम टिप्पणियां करके विवाद खड़ा कर चुके हैं। यहां महिलाओं के साथ छेड़छाड़ अक्सर होती है और कई लोग इसके लिए उनके कपड़ों को जिम्मेदार ठहराते हैं।

फूटेज़ विदेशी. कैप्शन देसी

दिलचस्प बात यह रही कि जब दिल्ली स्लटवाक में कोई “खास मसाला” नहीं मिला तो कई चैनलों ने टोरॉन्टो और लंदन के आयोजनों की फूटेज़ को आधार बना कर पैकेज़ चलाना शुरु कर दिया। खबर भड़काऊ बनाने के चक्कर में चैनलों ने खूब गर्मागरम चित्र दिखाए, लेकिन भारतीय स्लटवाक को बहस का मुद्दा बना दिया।

 

दिल्ली का  प्रदर्शन वैसे तो एक छात्रा उमंग सब्बरवाल के फेसबुक अभियान से शुरु हुआ था, लेकिन कई नामचीन हस्तियों ने भी इसे अपना समर्थन दिया। इस मुहिम में शामिल हुईं ज्यादातर महिलाओं ने टी शर्ट और जींस पहनी थी। काफी महिलाएं पारंपरिक भारतीय लिबास में भी थीं. यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली आर्ची शर्मा कहती हैं, “हम बेवजह कोई ऐसा कपड़ा नहीं पहनना चाहते जिसमें हम सहज महसूस न करें. लेकिन लड़की जो भी पहने, उसके साथ छेड़छाड़ तो होती है।”

उमंग सब्बरवाल

 

आयोजकों के मुताबिक दिल्ली की रैली खासी सफल रही और अब वे जल्दी ही मुंबई में भी स्लटवॉक का आयोजन करेंगी, लेकिन “देसी-हॉट” न मिलने से निराश फोटॉग्राफरों ने तो  यहां तक कह डाला कि जब दिल वालों की दिल्ली में प्रदर्शन इतना “फीका” रहा तो शिवसेना की आमची मुंबई में तो लड़कियां घूंघट निकाल कर आएंगी और तब कौन उनकी तस्वीरें उतारने जाएगा?

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

रंग लाया दीवानों का संघर्ष, गृह मंत्रालय को ठुकराना पड़ा दिल्ली सरकार का प्रस्ताव

 आखिरकार मीडियादरबार.कॉम की लगभग महीने भर चली मुहिम और उसमें मिले लाखों पाठकों  के सहयोग का नतीज़ा आ ही गया। गृह मंत्रालय को हारकर प्रधानमंत्री की अपील और दिल्ली सरकार के प्रस्ताव को मानने से मना करना पड़ गया। सोमवार देर शाम मंत्रालय ने विंडसर प्लेस प्रकरण से अपना हाथ वापस खींच लिया। गौरतलब […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: