युद्ध वाली देवी…. तनोट माता जैसलमेर

मनीष रामदेव 3
Page Visited: 89
0 0
Read Time:5 Minute, 10 Second

-जैसलमेर से मनीष रामदेव-

जैसलमेर में भारत पाक सीमा पर बने तनोट माता के मंदिर से भारत पाकिस्तान युद्ध की कई अजीबोगरीब यादें जुडी हुई है। यह मंदिर भारत ही नहीं बल्कि पाकिस्तानी सेना के फौजियों के लिये भी आस्था का केन्द्र रहा है।
सीमावर्ती जैसलमेर जिले में भारत पाक सीमा पर बना तनोट माता का मंदिर अपने आप में एक अद्भुद मंदिर कहा जाता है जैसलमेर में पाकिस्तानी सीमा से सटे इस इलाके में तनोट माता का मंदिर यहां के लोगों की आस्था का केन्द्र तो है ही, भारत व पाक की पिछली लडाईयों का मूक गवाह भी है। 1965 के भारत पाक युद्ध से माता की कीर्ती और अधिक बढ गई जब पाक सेना ने हमारी सीमा के अन्दर भयानक बमबारी करके लगभग 3000 हवाई और जमीनी गोले दागे लेकिन तनोट माता की कृृपा से किसी का बाल भी बांका नहीं हुआ। पाक सेना 4 किलोमीटर अंदर तक हमारी सीमा में घुस आई थी पर युद्ध देवी के नाम से प्रसिद्ध इस देवी के प्रकोप से पाक सेना को न केवल उल्टे पांव लौटना पडा बल्कि अपने सौ से अधिक सैनिकों के शवों को भी छोड कर भागना पडा। माता के बारे में कहा जाता है कि युद्ध के समय माता के प्रभाव ने पाकिस्तानी सेना को इस कदर उलझा दिया था कि रात के अंधेरे में पाक सेना अपने ही सैनिकों को भारतीय सैनिक समझ कर उन पर गोलाबारी करने लगे और परिणाम स्वरूप स्वयं पाक सेना द्वारा अपनी सेना का सफाया हो गया। इस घटना के गवाह के तौर पर आज भी मंदिर परिसर में 450 तोप के गोले रखे हुए हैं। यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिये भी ये आकर्षण का केन्द्र है।
1971 के युद्ध में भी पाक सेना ने किशनगढ पर कब्जे के लिये भयानक हमला किया था परन्तु 65 की ही तरह उन्हें फिर से मुह की खानी पडी। माता की शक्ति को देखकर पाक सेना के कमाण्डर शहनवाज खां ने युद्ध समाप्ति के बाद भारत सरकार से माता के दर्शन की इजाजत मांगी व ढाई वर्ष बाद इजाजत मिलने पर शहनवाज खां ने माता के दर्शन कर यहां छत्र चढाया।
लगभग 1200 साल पुराने तनोट माता के मंदिर के महत्व को देखते हुए बीएसएफ ने यहां अपनी चौकी बनाई है, इतना ही नहीं बीएसएफ के जवानों द्वारा अब मंदिर की पूरी देखरेख की जाती है, मंदिर की सफाई से लेकर पूजा अर्चना और यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिये सुविधाएं जुटाने तक का सारा काम अब बीएसएफ बखूबी निभा रही है। वर्ष भर यहां आने वाले श्रद्धालुओं की जिनती आस्था इस मंदिर के प्रति है उतनी ही आस्था देश के इन जवानों के प्रति भी है जो यहां देश की सीमाओं के साथ मंदिर की व्यवस्थाओं को भी संभाले हुए है।

तनोट माता के प्रति आम लोगों के साथ साथ सैनिकों की भी जबरदस्त आस्था है, श्रद्धालु यहां अपनी मनोकामनाओं को लेकर दर्शन करने के लिये आते हैं और अपनी मनोकामनाओं को पूरा होते थी देखते हैं। इस मूल मंदिर के पास में श्रद्धालुओं ने रूमालों का शानदार मंदिर बना रखा है जो देखते ही बनता है। इस मंदिर में आने वाला हरेक श्रद्धालु अपनी मनोकामना की पूर्ती के लिये यहां रूमाल अवश्य बांधते हैं और मनोकामनाओं की पूर्ती के बाद इस खोलने के लिये भी आते हैं। इस प्रकार यहां प्रतिदिन आने वाले श्रद्धालुओं की बढती संख्या के कारण 50 हजार से भी अधिक रूमाल यहां बंधे है।
भारत पाकिस्तान के बीच रिश्ते चाहे जैसे भी हो, एक दूसरे के जवान एक दूसरे के खून के प्यासे ही सही लेकिन इतनी कडवाहट के बीच भी माता तनोट के इस मंदिर में सरहद व मजहब सभी फासले भुला कर लोग श्रद्धा के साथ सर झुकाते है।

About Post Author

मनीष रामदेव

मनीष रामदेव बरसों से जैसलमेर से पत्रकारिता कर रहे हैं. वर्तमान एल्क्ट्रोनिक मीडिया के साथ साथ वैकल्पिक मीडिया के लिए भी अपना समय दे रहे हैं. मनीष रामदेव से 09352591777 पर सम्पर्क किया जा सकता है.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Facebook Comments

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

3 thoughts on “युद्ध वाली देवी…. तनोट माता जैसलमेर

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

आदिवासी युवतियों के MMS बनाते हैं सीआरपीएफ के जवान..

नक्सलवादियों से कॉरपोरेट घरानों को सुरक्षा दिलवाने के नाम पर झारखण्ड में तैनात सीआरपीएफ़ के जवान आदिवासी युवतियों के नग्न […]
Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram