जागरण के ब्यूरो चीफ को चाहिए गनर और पिस्तौल: पत्रकार पर लगाया सुपारी देने का आरोप

admin 2
रत्नाकर दीक्षित

इन दिनों पूर्वांचल के चंदौली जिले में दैनिक जागरण के ब्यूरो चीफ की जान को खतरा हो गया है। चंदौली के ब्यूरोचीफ रत्नाकर दीक्षित ने एसपी को पत्र देकर अपनी हत्या की सुपारी दिए जाने का आरोप लगाया है। इसके बाद एसपी ने उन्हें एक गनर मुहैया करा दिया है। दूसरी तरफ बताया जा रहा है कि यह मामला पिस्तौल के लाइसेंस लेने से जुड़ा हुआ है। प्रभारी महोदय दूसरे के कंधे पर बंदूक रखकर अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं।

रत्नादकर दीक्षित ने एसपी को जो पत्र दिया है, उसमें तो उन्होंने किसी का नाम नहीं लिखा है, परन्तु मौखिक रूप से आरोप लगाया है कि उनकी हत्या की सुपारी पूर्व ब्यूरो चीफ मदन चौरसिया ने दी है। अंदरखाने से जो खबर आ रही है वह यह है कि रत्नाकर दीक्षित एक तीर से दो शिकार करने की कोशिश में हैं। एक तरफ वे जागरण, वाराणसी के संपादकीय प्रभारी राघवेंद्र चड्ढा की राह का रोड़ा बने मदन चौरसिया को उनकी औकात दिखाना चाहते हैं तथा दूसरी तरफ पिस्टल का लाइसेंस भी लेना चाहते हैं।

बताया जा रहा है कि रत्नाकर को चंदौली का ब्यूरोचीफ बनाए जाने के बाद मदन चौरसिया तथा उनके बीच काफी तनाव था। राघवेंद्र चड्ढा अपने आदमी को सेट करना चाहते थे परन्तु  मदन बार-बार आड़े आ रहे थे। जिसके बाद रत्नाकर ने न सिर्फ मदन के साथ हाथापाई की बल्कि उन्हें एक साजिश के तहत अखबार से निकलवा भी दिया।

इसके पीछे मामला यह था कि राघवेंद्र चड्ढा की अनुपस्थिति में मदन चौ‍रसिया कार्यालय जाकर डायरेक्टर वीरेंद्र कुमार को अपनी आपबीती सुना दी थी, तभी से चड्ढा खार खाए हुए थे। इसके बाद उन्होंने न सिर्फ मदन चौरसिया को जागरण से बाहर का रास्ता दिखलाया बल्कि अब उसे सबक सिखाने की तैयारी भी कर रहे हैं। जान पर खतरा होने का अंदेशा वाली बात इसलिए भी झूठी लग रही है कि रत्नाकर ने मामला चंदौली कोतवाली में दर्ज कराने की बजाए सीधे एसपी को दिया है।

खबर है कि सपा के युवा नेता और बिजनेस मैन मनोज सिंह की रत्नाकर दीक्षित से खूब छनती है। अभी हाल ही में रत्नाबकर ने एक कार खरीदी है, जिसको लेने में कहा जा रहा है कि मनोज सिंह ने आर्थिक मदद की थी। कर्नाटक में व्यवसाय करने वाले मनोज सिंह वहां से चुनाव भी लड़ चुके हैं। अब वो अपने गृह जनपद से चुनाव लड़ना चाह रहे हैं। इसके लिए नए परसीमन के बाद बने सकलडीहा या सैयदराजा विधानसभा से भाग्य  आजमाने की कोशिश में हैं।

इसके लिए वो रत्नाकर दीक्षित का सहारा ले रहे हैं, जिनकी सपा अध्यक्ष प्रभुनारायण सिंह यादव और सपा सांसद रामकिशुन से काफी गहरी छनती है। हालांकि सैयदराजा से सपा ने प्रत्याशी घोषित कर दिया है, परन्तु उसका विरोध हो रहा है। विरोध की छोटी खबरों को भी जागरण बड़ा करके प्रकाशित करता है ताकि मनोज को टिकट दिलाने का खेल को फैलाया जा सके। इसके लिए पीछे जागरण संस्कररणों को देखा जा सकता है।

सूत्रों का कहना है कि एक हाथ दो दूसरे हाथ लो की रणनीति के सहारे रत्नाकर ने मनोज सिंह से टिकट दिलाने और विरोध की खबर छापने के एवज में पिस्टाल दिलाने की मांग की है, जिसके लिए यह बिजनेसमैन नेता सहर्ष तैयार है। बताया जा रहा है कि अब जान पर खतरे की जो बात कही जा रही है, वो बस पिस्टल का लाइसेंस कराने के लिए कही जा रही है।

लोगों में चर्चा है कि इसमें चंदौली के पुलिस अधीक्षक की भी मौन सहभागिता है, नहीं तो अब तक मुकदमा दर्ज कर लिया गया होता। यह खेल रत्नाकर और एसपी शलभ माथुर केवल अपनी अपनी गोटी मजबूत करने के लिए खेल रहे हैं ताकि फंसने की नौबत ना आए। क्योंकि पुलिस ने अब तक मदन से इस मामले में पूछताछ भी नहीं की है। वैसे भी चंदौली के सूत्र बताते हैं कि जागरण में ढाई-तीन हजार पाने वाले मदन चौरसिया खुद इस समय अपने खाने की चिंता में परेशान हैं वो क्या किसी की हत्यां की सुपारी देंगे। सारा खेल सबक सिखाने और पिस्टल का लाइसेंस लेने के लिए है।

(खबर चंदौली के एक पत्रकार के मेल पर आधारित)

Facebook Comments

2 thoughts on “जागरण के ब्यूरो चीफ को चाहिए गनर और पिस्तौल: पत्रकार पर लगाया सुपारी देने का आरोप

  1. रत्‍नाकर दीक्षित बहुत पहुंचे हुए चीज हैं. राघवेंद्र चड्ढा के बहुत खास हैं तो उसके पीछे एक कारण हैं. उस कारण को सार्वजनिक मंच पर नहीं कहा जा सकता परन्‍तु जो चड्ढा जी को जानता है और जागरण वालों को अच्‍छी तरह पता है कि क्‍यों ये उनके खास हैं. उसी खास चीज की बदौलत आगरा से बनारस पहुंच आए रत्‍नाकर और अब चंदौली में जमकर जागरण की इज्‍जत बेच रहे हैं और पैसा कमा रहे हैं. साथ ही राघवेंद्र जी को हर भइया चरण स्‍पर्श कर रहे हैं. इनकी चरण स्‍पर्श की बीमारी जागरण के कई लोगों को लग गई है. पिस्‍टल क्‍या चड्ढा जी की छत्रछाया में भाई साहब तोप का लाइसेंस भी लेंगे आखिर खास कारण जो है. वीरेंद्र जी बेचारे कुछ भी देख और कर पाने की स्थि‍ति में नहीं हैं क्‍योंकि उन्‍हें चड्ढा जी ने धृतराष्‍ट्र बना दिया है. नोएडा में भी विष्‍णु त्रिपाठी गैंग के होने के चलते राघवेंद्र जी का कुछ नहीं बिगड़ना है तो भइया लोग पिस्‍टल लें या तोप किसी की औकात है कि रोक लेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

क्या आप सोचते हैं मीडिया है आपके लिए सही करीयर? जरा एक नज़र डालें इधर भी

फेसबुक पर एक ग्रुप है “ऑल इंडिया यंग जर्नलिस्ट एसोशिएशन“। करीब दो महीने पुराने इस ग्रुप में लगभग सवा पांच सौ युवा मीडियाकर्मी जुड़े हैं। कुबेरनाथ नाम के एक सदस्य ने वॉल पर लिखा- “एक मित्र ने बहस के दौरान कहा कि मीडिया दो तबके के ही लोगों के लिए है…एक तो […]
Facebook
escort eskişehir - lidyabet - macbook servis - kabak koyu
%d bloggers like this: