RTI के तहत सूचना ना देना भारी पड़ा IG और SP को…

admin 1

सूचना के अधिकार (आर. टी. आई.) के तहत मांगी गयी सूचना न देना करनाल रेंज के आई. जी. बलबीर सिंह  व एस. पी. शशांक आनंद को भारी पड़ गया है, हरियाणा सूचना आयोग ने सख्त रुख इख़्तियार करते हुए उन्हें नोटिस भेज जवाब माँगा है वहीँ उन्हें आयोग में उपस्थित होने के आदेश भी दिए है.
आर.टी. आई. कार्यकर्ता अक्षय कुमार शर्मा ने ३० अप्रैल को करनाल पुलिस से उनके द्वारा इस्तेमाल किये जा रहे सरकारी वाहनो की आर.सी., बीमा व प्रदुषण पर्चियों की सत्यापित प्रतियाँ मांगी थी. तय समय पर सूचना न मिलने पर अक्षय ने इसकी अपील प्रथम अपीलीय अधिकारी एवं पुलिस महानिरीक्षक (आई. जी.) करनाल के समक्ष डाली परन्तु वहां से भी कोई जवाब प्राप्त न होने पर अक्षय ने ३० जुलाई को इसकी शिकायत चंडीगढ़ स्थित राज्य सूचना आयोग, हरियाणा को की जिस पर कार्यवाही करते हुए सूचना आयुक्त उर्वशी गुलाटी ने नोटिस जारी कर दोनों अधिकारियो को तलब कर लिया है. उन्हें 28 सितम्बर तक लिखित जवाब देने को कहा गया है वहीँ 24 दिसम्बर को 11 बजे आयोग के सामने उपस्थित होकर अपने बात रखने को कहा गया है. हालकि सूचना आयुक्त ने अधिकारियो को इस बात की छूट दी है की वे अपनी गैरहाजिरी में किसी अन्य अधिकारी को आयोग में भेज सकते है परन्तु उस अधिकारी का पद राजपत्रित अधिकारी (गजटेड आफिसर) से कम न हो.

वहीँ इस बारे में अक्षय का कहना है की पुलिस कर्मचारी को यह अधिकार है की वह अपनी शक्तियों का प्रयोग करके सभी नागरिको के वाहनों को चेक कर सकता है और कागज सही या पुरे न पाए जाने पर मोटर व्हीकल एक्ट के आधीन उनका चालान कर सकता है. इसी प्रकार भारत की प्रत्येक नागरिक को भी अधिकार है की वह सुचना के अधिकार का प्रयोग करके किसी भी विभाग के सरकारी वाहनों के कागजो की जांच कर सकता है. कानून सबके लिए एक है, पुलिस औरो का चालान करती है परन्तु उनकी खुद की गाडियों के कागज पुरे नहीं है इसीलिए सूचना देने में आनाकानी की जा रही है.
Facebook Comments

One thought on “RTI के तहत सूचना ना देना भारी पड़ा IG और SP को…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

अंधा बांटे कोयला खदान और फिर फिर अपनों को दे...

कोयले की कालिख कई दिग्गजों के चेहरे पर पुती है. सरकार चाहे एनडीए की रही हो या फिर यूपीए की, इससे कोयले की इस दलाली में सबने अपने मुंह काले किये हैं. इस काले सोने को लूटने में कोई पीछे नहीं रहा. एक वेब साईट ने जब इस पूरे मामले […]
Facebook
%d bloggers like this: