पूर्वोत्तर के निवासियों का शेष भारत से खौफज़दा होकर पलायन..

admin 2

खुद पर हमले से भयभीत पूर्वोत्तर के भारतीयों ने आंध्र प्रदेश, कर्नाटक व महाराष्ट्र से पलायन शुरू कर दिया है. पूर्वोत्तर के लोगों को धमकी भरे एसएमएस मिल रहे हैं. इससे लोगों का पलायन बढ़ रहा है. मुंबई से करीब डेढ़ हजार लोग गुवाहाटी एक्सप्रेस से असम की ओर रवाना हो गए. सिर्फ बेंगलुरू से ही बुधवार रात पूर्वोत्तर के 6800 लोग तीन विशेष ट्रेनों से अपने घर को रवाना हुए. पलायन का दौर शुक्रवार को भी जारी है.

बेंगलुरू छोड़ रहे पूर्वोत्तर भारतीयों को कर्नाटक के गृहमंत्री आर. अशोक ने खुद बेंगलुरू स्टेशन पहुंचकर इन लोगों को समझाया. फिर भी स्टेशनों पर सैकड़ों की संख्या में लोग जमा हैं. इसके अलावा मुंबई, पुणे, चेन्नई व हैदराबाद से भी पलायन जारी है. कर्नाटक के मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टर ने गुरुवार को लोगों को भरोसा दिलाया कि सरकार उनके साथ है.

इस बीच, केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिदे ने भी कहा है कि किसी भी क्षेत्र के लोग देश में कहीं भी रह सकते हैं. जो लोग अफवाह फैला रहे हैं उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. हालाकि लोगों को सुविधा मुहैया कराने के लिए कर्नाटक से उत्तर-पूर्वी राज्यों के लिए विशेष ट्रेनें चलाई जा रही हैं. बेंगलुरू में एक लाख से अधिक लोग पूर्वोत्तर भारतीय हैं.

गौरतलब है कि असम में 19 जुलाई को दो समुदायों के बीच हुई हिंसा  में चार लोगों की मौत हुई थी. इसके बाद से हिंसा का दौर जारी है. इस में अब तक 77 लोगों की मौत हो चुकी है. करीब 4.50 लाख लोग राहत शिविरों में गुजर-बसर कर रहे हैं. इसके बाद मुंबई और अन्य शहरों में एक समुदाय के उपद्रवियों द्वारा मचाये  उत्पात के कारण भारत भर में बसे पूर्वोत्तर भारतीयों के दिलों में डर बिठा दिया है और इन पूर्वोत्तर भारतीयों में असुरक्षा की भावना आ चुकी है. इस बीच कुछ असामाजिक तत्व लगातार अफवाहें फैलाकर इन पूर्वोत्तर भारतीयों को सताने में जुटे हैं.

इन लोगों को एसएमएस करके धमकाया जा रहा है. मैसेज में लिखा होता है कि शहर और राज्य छोड़ कर नहीं गए तो खमियाजा भुगतना होगा. एमएमएस के अलावा फेसबुक जैसी सोशल साइट का भी अफवाह फैलाने के लिए भरपूर इस्तेमाल किया जा रहा है.

बेंगलुरू छोड़ रहे पूर्वोत्तर भारतीयों को सुरक्षा का आश्वासन देने कर्नाटक के गृहमंत्री आर अशोक के अलावा राज्य के पुलिस महानिदेशक लालरोकमा पुचुओ भी बेंगलुरू स्टेशन पहुंचे. उन्होंने टिकट खिड़की पर लाइन लगाए लोगों से कहा कि ‘हमले की खबर महज अफवाह है. मैं खुद पूर्वोत्तर का रहने वाला हूं. किसी को डरने की जरूरत नहीं है.’ पुचुओ मिजोरम के रहने वाले हैं. मगर इसका कोई खास असर नहीं पड़ा.

रेलवे ने कर्नाटक, खासकर बेंगलुरू से जरूरत के मुताबिक विशेष ट्रेन मुहैया कराई हैं. गुवाहाटी एक्सप्रेस में चार बोगिया जोड़ी गईं. दो विशेष ट्रेनें चलाई गईं. ट्रेनें शुक्त्रवार तक असम और बाकी उत्तर-पूर्वी राज्यों तक पहुंचेगी. वहा सभी स्टेशनों पर सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं.

बेंगलुरू के अलावा पिछले दो दिनों में हैदराबाद से करीब 1000, मुंबई और पुणे से 4000 से अधिक लोगों ने पलायन किया है. अभी हाल ही में मुंबई में असम हिंसा के खिलाफ आयोजित प्रदर्शन में हंगामा हो गया था. इसमें दो लोगों की मौत हो गई थी. करीब 55 लोग घायल हुए थे. इससे भी लोगों में डर बैठ गया था.

Facebook Comments

2 thoughts on “पूर्वोत्तर के निवासियों का शेष भारत से खौफज़दा होकर पलायन..

  1. ॐ “जय गुरु देव” “वन्देमातरम” “जयतु भारती” “शाकाहार सर्वोत्तम आहार” (मांसाहार राक्षसी आहार)
    भारतीय आम जनमानस सहित सारी दुनिया का ध्यान असल सामाजिक – आर्थिक, सांस्कृतिक व् राष्ट्रीय मुद्दों- गरीबी, बेरोजगारी, भुखमरी, कुपोषण, अशिक्षा, आत्महत्या, कालाधन , भ्रष्ट व्यवस्था व् भ्रष्टाचार से हटाने हेतु सत्ता व् व्यवस्था के शीर्ष पे बैठे हुए देशद्रोही, गद्दार कांग्रेसी आये दिन पालतू कुत्तों (गुंडे, मवालिओं, आतंकवादिओं) से दंगे फसाद करते/ कराते रहते हैं. अभी२ असम, बेंगलोर, मुंबई, लखनऊ आदि देश के दुसरे स्थानों के दंगे कांग्रेस द्वारा प्रायोजित हैं. राष्ट्रवाद के प्रतिक बन चुके योग पुरोधा, योग ऋषि स्वामी रामदेव जी महाराज द्वारा छेड़े गए धर्मयुद्ध ( कालाधन, भ्रष्टाचार, भ्रष्ट व्यवस्था के विरुद्ध) से केंद्र की पापी सरकार की चूलें इतनी बुरी तरह से हिल गई हैं क़ि सरकार को सन्निपात हो गया है. और अब ये सरकार किसी भी हद तक जा सकती है. प्रिंट व् इलेक्ट्रोनिक (भांड) मीडिया को तो इसने पहले से खरीद ही रखा है. कुछ सोशल मीडिया के लोगों को भी खरीद रखा है, लेकिन भारी संख्या में सोशल मीडिया वाले देशभक्त व् क्रांतिकारी हैं ,जिन्हें किसी भी कीमत पे ख़रीदा नहीं जा सकता है.ऐसे में ये धूर्त बेईमान देशद्रोही गद्दार व् लुटेरे कांग्रेसी (कुछ दुसरे दलों के लोगों को गुमराह करके उनका समर्थन लेकर ) देशभक्त सोशल मीडिया पे प्रतिबन्ध लगाने पे आमादा हैं . ऐसे देश्द्रोहिओं से गिन २ व् चुन2 के बदला लेना है. ऐसे एक भी देशद्रोही गद्दार को अबकी लोकसभा में नहीं जाने देना है. स्वामी रामदेव जी के “कांग्रेस भगाओ( हटाओ). देश बचाओ” के नारे को साकार करना है. — डॉ. क्रांतिवीर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Next Post

मुश्किल में फंसी केंद्र सरकार : कोयला खदान के आवंटन में अब तक का सबसे बड़ा घोटाला

संसद में शुक्रवार को सीएजी ने कोयला, बिजली और नागरिक उड्डयन पर अपनी रिपोर्ट पेश कर दी हैं. इनमें देश को करीब 2 लाख 18 हजार करोड़ का नुकसान होने का अनुमान लगाया गया है. कोयला ब्लॉक आवंटन में 1.86 लाख करोड़, नागरिक उड्डयन में करीब 3415 करोड़ व बिजली कंपनियों […]
Facebook
%d bloggers like this: