अमृतकाल में महिला उत्पीड़न का जहर

अमृतकाल में महिला उत्पीड़न का जहर

पिछले कुछ दिनों में महिला उत्पीड़न से जुड़ी तीन-चार खबरें आई हैं, जो बेहद व्यथित करने वाली हैं। संयोग ये है कि इन तमाम खबरों का संबंध उत्तरप्रदेश से है। हालांकि इन खबरों का विश्लेषण राज्य की सीमाओं से परे जाकर समग्रता में करने की जरूरत है, क्योंकि महिलाओं की स्थिति हर जगह एक जैसी ही है। इस वक्त जिसे आजादी का अमृतकाल कहा जा रहा है, उसमें देश की आधी आबादी के लिए अमृत का कोई कतरा है या नहीं, इस पर भी विचार करने की जरूरत है। अभी 15 अगस्त को लालकिले से प्रधानमंत्री मोदी क्या भाषण देंगे,...

पड़ोसियों की छोटी-छोटी बातों से सबक की जरूरत..

पड़ोसियों की छोटी-छोटी बातों से सबक की जरूरत..

-सुनील कुमार॥ लोकतंत्र जब कमजोर होता है, तो कई तरफ से होने वाले हमलों की वजह से कमजोर होता है, किसी एक वजह से नहीं। हिन्दुस्तान और पाकिस्तान एक ही दिन दो आजाद मुल्क बने थे, और हिन्दुस्तान अभी कुछ बरस पहले तक लोकतंत्र के पैमानों पर एक मजबूत देश माना जाता था। हाल के बरसों में इस देश में लोकतांत्रिक ढांचा बुरी तरह कमजोर हुआ है, लेकिन फिर भी जब कभी पड़ोस के पाकिस्तान से इसकी तुलना की जाती है तो यह एक बेहतर, और एक अधिक विकसित लोकतंत्र दिखता है। दरअसल लोगों की नजरों में आर्थिक विकास और...

75वीं सालगिरह के मौके पर असली आजादी तो यह हो सकती है…

75वीं सालगिरह के मौके पर असली आजादी तो यह हो सकती है…

-सुनील कुमार॥ एक-एक करके देश के सभी बड़े अखबारों ने इस बात पर रिपोर्ट छाप ली है कि बस्तर में किस तरह करीब सवा सौ बेकसूर आदिवासियों को एनआईए ने नक्सल आरोपों में पांच बरस तक जेल में सड़ाए रखा, और अदालत से उनकी जमानत तक नहीं हो सकी क्योंकि वे सब बहुत गरीब थे। अब जब ये इतने बरस बाद लौटकर जिंदगी का सामना कर रहे हैं, तो रोज कमाने-खाने वाले लोगों के न रहने से परिवारों का जो हाल हुआ है, वह पता लग रहा है। और यह हाल आदिवासी इलाकों से बाहर शहरी इलाकों में और अधिक...

सड़कों पर नियम तोड़ने का हक महज जुर्माने से अधिक सजा का हकदार..

सड़कों पर नियम तोड़ने का हक महज जुर्माने से अधिक सजा का हकदार..

-सुनील कुमार॥ छत्तीसगढ़ में कल एक बुरा सडक़ हादसा हुआ, जिसमें मौतें तो कुल तीन हुईं, लेकिन उनसे सरकार के इंतजाम की कमजोरी उजागर हुई है। एक नौजवान लडक़े ने अपनी गर्लफ्रेंड को कार का स्टियरिंग थमा दिया जिसे कि कार चलाना आता ही नहीं था। नतीजा यह हुआ कि उसने इलाज के लिए अस्पताल जाते हुए एक बाईक पर सवार तीन लोगों को कार से बहुत बुरी तरह ठोकर मारी, और उसमें तीनों लोगों की मौत हो गई। जख्मी कार सवार लोगों को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है, और कार को जब्त किया है। सडक़ों पर इस तरह...

राहुल गांधी का जज्बा..

राहुल गांधी का जज्बा..

पिछले लगभग दो दशकों से राहुल गांधी की छवि नौसिखिए राजनेता जैसी दिखाने के लिए मीडिया के कुछ सेलिब्रिटी पत्रकारों और संपादकों ने काफी मेहनत की। सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग के काम में लगाए गए लोगों ने भी इसमें खूब मदद की। उनके वीडियो और तस्वीरों को कभी काट-छांट करके, कभी छेड़छाड़ करके जनता के बीच इस तरह पेश किया गया, जिसमें राहुल गांधी कमअक्ल वाले दिखें, इसके लिए पप्पू जैसा शब्द भी उनके नाम के लिए इस्तेमाल किया गया। इसके बाद भी राहुल गांधी की भारतीय राजनीति में मौजूदगी से घबराहट होती रही तो फिर उनके चरित्र पर उंगलियां...

ताइवान पर अमरीका और चीन में तनाव कहां तक.?

ताइवान पर अमरीका और चीन में तनाव कहां तक.?

-सुनील कुमार॥ अभी दुनिया यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद शुरू हुई जंग को ही बड़ी मुश्किल से झेल पा रही है। इन दो देशों से दूर, धरती के बिल्कुल दूसरी तरफ बसे हुए देशों तक भी इस जंग के धमाकों से अर्थव्यवस्था में दरारें पड़ रही हैं। चारों तरफ पेट्रोलियम और गैस के दाम बढ़ रहे हैं, अनाज और खाद की कमी हो रही है, और महंगाई से परे दुनिया का एक बड़ा हिस्सा ऐसा भी है जो कि अंतरराष्ट्रीय दान में मिले अनाज पर जिंदा है, और वह हिस्सा भूख से मौत की तरफ बढ़ रहा है क्योंकि...

ताइवान- चीन और अमेरिका

ताइवान- चीन और अमेरिका

धरती के एक कोने पर चल रहे रूस और यूक्रेन युद्ध के कारण पूरी दुनिया का हिसाब-किताब गड़बड़ा गया है। सैकड़ों लोग अकाल मौत मारे गए हैं और लाखों जिंदगियों पर इस युद्ध का असर पड़ा है। और अभी ये नहीं पता कि इसका अंतिम परिणाम क्या होगा। पश्चिमी देशों, खासकर अमेरिका से उम्मीदें थीं कि वह इस युद्ध में रूस के खिलाफ उसका साथ देगा, लेकिन फिलहाल यूक्रेनी सैनिक और आम आदमी ही अपनी जान गंवा रहे हैं। अब जंग के ऐसे ही हालात एशिया में चीन और ताइवान के बीच बनने लगे हैं। चीन की घुड़कियों के बावजूद...

बच्चों के पोर्नो फैलाने पर गिरफ्तारियां बंद नहीं, इसका इलाज क्या है?

बच्चों के पोर्नो फैलाने पर गिरफ्तारियां बंद नहीं, इसका इलाज क्या है?

-सुनील कुमार॥ छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में अभी 11 लोगों को बच्चों के पोर्नो वीडियो इंटरनेट पर डालने और उन्हें फ़ैलाने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया है। हर कुछ महीनों में इस राज्य में ऐसी गिरफ्तारी हो रही है, और देश में तो हर दिन कहीं न कहीं ऐसा हो रहा है। बच्चों के पोर्नो का एक मतलब यह भी होता है कि उनका देह-शोषण भी हो रहा है। दो बरस पहले उत्तरप्रदेश से बच्चों के सेक्स-शोषण का एक भयानक मामला सामने आया था जिसमें सिंचाई विभाग का एक इंजीनियर, रामभवन सिंह, बच्चों को इधर-उधर से जुटाकर उनका यौन...

नए भारत के तीन रंग..

नए भारत के तीन रंग..

-सर्वमित्रा सुरजन॥ निशांक ने जिस तरह शेयर बाजार या क्रिप्टो करेंसी में निवेश किया, उससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि उसे जल्द से जल्द अधिक दौलत कमाने की चाह रही होगी। क्या इसे बाजारवाद और भूमंडलीकरण का स्याह पक्ष माना जाए, जो हमारे नौजवानों को पढ़ने और जीवन संवारने की उम्र में दौलत कमाने के लिए उकसा रहा है। क्या यह परिवार संस्था के लिए चुनौती है पिछले दिनों दो ऐसी खबरें सामने आईं, जो न केवल निराशाजनक और दुख पहुंचाने वाली हैं, बल्कि इन खबरों में भविष्य खराब होने वाले खतरनाक संकेत भी छिपे हुए हैं। एक...

महंगाई पर बेतुकी बातें..

महंगाई पर बेतुकी बातें..

संसद के इस मानसून सत्र में कुछ कांग्रेसी सांसदों को इसलिए निलंबित किया गया था, क्योंकि वे महंगाई पर चर्चा की मांग सरकार से कर रहे थे और अपनी मांग पूरी न होते देख शोर-शराबे और तख्तियां दिखाने लगे थे। इस सत्र से पहले भी संसद के अन्य सत्रों में विपक्ष की ओर से महंगाई पर चर्चा एक स्थायी मुद्दा रहा है, लेकिन विपक्ष का आरोप है कि सरकार हर बार इस पर चर्चा से बचना चाहती है। सदन के बाहर भी बढ़ती महंगाई को लेकर विपक्ष कई बार प्रदर्शन कर चुका है, लेकिन सरकार के लिए वो भी बेमानी...

भोपाल की खुदकुशी ने साबित कर दी चैनलों की साम्प्रदायिक-हिंसक साजिश

भोपाल की खुदकुशी ने साबित कर दी चैनलों की साम्प्रदायिक-हिंसक साजिश

-सुनील कुमार॥ मध्यप्रदेश में भोपाल में बीटेक की पढ़ाई करने वाले 21 बरस के एक छात्र, निशांक राठौर की लाश एक पटरी पर कटी हुई मिली, और उसके फोन से उसके पिता को भेजा गया ऐसा मैसेज मिला जो मुस्लिमों द्वारा दी गई धमकी सरीखा लग रहा था। उसमें लिखा था- नबी से गुस्ताखी नहीं, राठौर साहब आपका बेटा बहुत बहादुर था। इस छात्र के इंस्टाग्राम अकाऊंट पर भी ऐसा लिखा मिला- सारे हिन्दू कायरों देख लो, अगर नबी के बारे में गलत बोलोगे तो यही हश्र होगा। इससे अधिक टीवी चैनलों को और क्या लगता था। भडक़ाने वाले पोस्टर...

देश की मजबूती के लिए जरूरी बातें..

देश की मजबूती के लिए जरूरी बातें..

देश में धार्मिक विभाजन की गहराती लकीर के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का कहना है कि धार्मिक वैमनस्यता का मुकाबला करने के लिए धर्मगुरुओं को मिलकर काम करना होगा। पिछले दिनों राजधानी दिल्ली में ऑल इंडिया सूफी सज्जादानशीन काउंसिल के एक कार्यक्रम में विभिन्न धर्मों के धर्मगुरु एक मंच पर एकत्रित हुए। इस मौके पर संस्था के संस्थापक हजरत सैय्यद नसीरुद्दीन चिश्ती ने कहा कि सर तन से जुदा स्लोगन इस्लाम विरोधी है। यह तालिबानी सोच है, इसका मुकाबला करने के लिए बंद कमरों की जगह खुले में आकर लड़ाई की जरूरत है। इस सम्मेलन में धार्मिक नेताओं...